कैसे मोदी सरकार द्वारा दिनदहाड़े वैक्सीन को लेकर के लूट मचाई जा रही है । जाने वैक्सीन के पीछे की सच्चाई – Mohit Bhati Advocate

कैसे मोदी सरकार द्वारा दिनदहाड़े वैक्सीन को लेकर के लूट मचाई जा रही है । जाने वैक्सीन के पीछे की सच्चाई

बड़े ही शर्म की बात है कि जो काम सरकार को करना चाहिए था वह काम अब दिल्ली पुलिस को करना पड़ रहा है।

Showing a human face in fight against Corona, SHO Vasant Vihar Inspector Sunil Kumar responded to an SOS call by a resident of CPWD Colony, Vasant Vihar for an oxygen cylinder.The Vasant Vihar police station reacted promptly and ASI Kaushal deployed on ERV reached with pic.twitter.com/2grRIgcG1W

— DCP South West Delhi (@dcp_southwest) April 21, 2021

क्योंकि सरकार को फुर्सत ही कहां है। सरकार तो नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में सभी मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को लेकर के पश्चिम बंगाल के चुनाव में व्यस्त थी और अब चुनाव के रिजल्ट पर गिद्ध की तरह नजर गड़ाए बैठे होंगे।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी बंगाल की जनता को बेवकूफ बनाते हुए। 


 जनता मरे तो मरे हैं लेकिन चौकीदार तो फकीर आदमी है जी, जब भी देश पर कोई आफत आएगी तो झोला उठाएगा और चल पडेगा । 

कल तक देश का चौकीदार कहता था कि मैं गरीबों के लिए काम कर रहा हूं, क्या यही गुनाह है मेरा कि मैं भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही कर रहा हूं,क्या यही गुनाह है मेरा कि मैं गरीबों को हक दिलाने के लिए काम कर रहा हूँ, क्या यही है मेरा गुनाह कि गरीबों के हक को छीनने वालों को अब हिसाब देना पड़ रहा है, हिंदुस्तान की पाई-पाई पर अगर किसी का अधिकार है तो भाइयों बहनों देश के सवा सौ करोड़ लोगों का अधिकार है। ” मोदी जी अगर आप पूछते हो कि क्या मेरा यही गुनाह है तो आज देश की जनता कह रही है कि हां तुम्हारा यही गुनाह है ” मोदी जी आज आपके हाथ मासूम लोगों के खून से रंगे हुए है। आज देश का गरीब, ऑक्सीजन के बगैर तड़पते हुए मरीज आपसे हिसाब मांग रहे है मोदी जी हिसाब दो !

देश की जनता मांगे जवाब मोदी सरकार दे दो हिसाब।अब मैं देश के इन्ही सबसे बड़े चौकीदार के काले कारनामों को आपके सामने खोलने जा रहा हूं। आपकी जानकारी के लिए बता देना चाहता हूं कि मौजूदा समय में कोरोनावायरस से लड़ने के लिए दो तरह की वैक्सीन देश में बन रही है। पहली है ” Covaxin ” वैक्सीन जिसे Bharat Biotech नामक कम्पनी बना रही है और दूसरी ” कोविडशील्डजिसे आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और फार्मा कंपनी एस्ट्रेजनेका ने मिलकर बनाया है। जिसका परीक्षण,उत्पादन और बिक्री की जिम्मेदारी पुणे स्थित सिरम इंस्टीट्यूट की है। केंद्र सरकार ने दो तरीके से वैक्सीन खरीदी एक तो पीएम केयर्स फंड से और दूसरी भारत सरकार के फंड से। जिसका खुलासा देश के सोशल एक्टिविस्ट  साकेत गोखले द्वारा मांगी गई एक आरटीआई के द्वारा हुआ। पीएम केयर्स फंड से कोविडशील्ड की 5.6 करोड डोज खरीदी गई 210/ रूपए प्रत्येक डोज के हिसाब से और Covaxin वैक्सीन की 1 करोड डोज खरीदी गई लगभग 309.75/ रूपए प्रत्येक डोज के हिसाब से। तो दोनों वैक्सीन को मिलाकर कुल खरीदी गई वैक्सीन 6.6 करोड डोज और इनमें से लगभग 6 करोड डोज 18 मार्च 2021 तक ” एक्सटर्नल मिनिस्ट्री अफेयर्स ” की वेबसाइट पर मौजूद डाटा के हिसाब से भारत सरकार विदेशों में एक्सपोर्ट कर चुकी है। 



और वही दुसरी तरफ भारत सरकार के फंड से कोविडशील्ड वैक्सीन की 10 करोड डोज और Covaxin वैक्सीन की 2 करोड डोज 157.50/ रूपए के हिसाब से खरीदे जाने की प्रक्रिया जारी है।





I am shocked to learn the Bharat Biotech a swadeshi company has already done trials on 13, 000 persons in phase III . The Angrez vaccine has been tested only on 1200 persons. Yet the Angrez has got the contract and swadeshi in the ditch.

— Subramanian Swamy (@Swamy39) January 2, 2021

तो सवाल यह आता है कि आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने देश की जनता के पैसे से महंगे दामों में वैक्सीन क्यों खरीदी और उसे विदेशों में क्यों बेच दिया तथा केंद्र सरकार के पैसों से वही वैक्सीन सस्ते दामों में क्यों खरीदी ? मोदी जी जब आप मंच से कहते हो की एक देश, एक संविधान मैं तो यहां तक भी मानने के लिए तैयार हूं कि एक पार्टी BJP एक नेता SHRI NARENDRA MODI JI लेकिन फिर पूरे देश में वैक्सीन का मूल्य एक क्यो नही होना चाहिए? फिर इस बात से क्या फर्क पडता है कि वैक्सीन का मूल्य राज्य सरकार चुकाए  या फिर केंद्र सरकार। 

भाइयों बहनों अब मैं मोदी जी से पूछना चाहता हूं कि जो पीएम केयर्स फंड में देश के लोगों ने अपना पेट काट – काट कर, देश हित में लाखों-करोड़ों रूपए जमा कराए थे और सबसे बड़ी बात अर्जुन भाटी गोल्फर ( थ्री टाइम्स जूनियर गोल्फ वर्ल्ड चैंपियन ने अपनी अब तक की जीती हुई सारी ट्राफियां बेचकर सारे पैसे पीएम केयर्स फंड में जमा करवा दिये

आपको🙏 8 साल में जो देश,विदेश से जीतकर कमाई हुई 102 ट्रोफ़ी देश संकट के समय मैंने 102 लोगों को दे दी,उनसे आए हुए कुल-4,30,000-Rs आज PM Care Fund में देश की मदद को दिए,ये सुनकर दादी रोई फिर बोली तू सच में अर्जुन है,आज देश के लोग बचने चाहिए ट्रोफ़ी तो🏆फिर आ जाएँगी,@narendramodi 🇮🇳 pic.twitter.com/wmoJtyObzi

— Arjun Bhati – ( भारतीय ) 🇮🇳 🙏 (@arjunbhatigolf) April 7, 2020




उनसे खरीदी गई वैक्सीन पर सबसे पहले भारत की सवा सौ करोड़ जनसंख्या का हक था या नही ? क्या यही देशभक्ति है आपकी पीएम केयर्स फंड में जमा हुए हजारों करोड़ रूपए की वैक्सीन खरीद कर देश की जनता को देने के बजाय विदेशों में एक्सपोर्ट कर दी। मैं पूछना चाहता हूं मोदी जी से क्या देश के लोगों की गाढ़ी कमाई से खरीदी गई वैक्सीन और बनाए गए ऑक्सीजन पर देश के गरीब लोगों का हक नहीं था.

मैं पूछना चाहता हूं मोदी जी से क्या वे गोरे लोग जिन्होंने हमारे देश को कई सौ सालों तक गुलाम बनाए रखा वे आपके ज्यादा अपने थे, क्या वह देश जिसने आप को वीजा देने से मना कर दिया था। वह देश आपका ज्यादा अपना है. मोदी जी इस देश का पढ़ा-लिखा वर्ग समझता है कि आप इन देशों की गुलामी कर चापलूसी कर और बांग्लादेश,नेपाल,श्रीलंका,नाईजीरिया जैसे देशों को मुफ्त में वैक्सीन ऑक्सीजन और अन्य सुविधाएं देकर के ग्लोबल लीडर बनने का सपना देख रहे हैं, क्या आप खुद को नेल्सन मंडेला या राष्ट्रपिता महात्मा गांधी घोषित करना चाहते हो ? मोदी जी आप यदि उनके जैसा बनना चाहते हो तो पहले उनके बारे में जानो। उन्होंने मानवता के लिए कितना त्याग और बलिदान दीया, क्या तुम यह कर सकते हो ? तुम तो दिन में चार बार कपड़े बदलते हो। कोरोना जैसी महामारी के समय भी पूरी दुनिया जानती है कि आपने अपनी सुख सुविधाओ में कोई कमी नहीं आने दी और अपने लिए लगभग 8,500/ करोड रुपए की लागत के दो Boeing 777-300 ER विमान खरीदे। भाइयों – बहनों ये सारी सुख सुविधाएं आपके पैसे से ली जा रही है लेकिन आप उस विमान के आसपास भी नहीं फटक सकते इस बात की गारंटी मैं लिखकर दे सकता हूं।


अब यहां पर आप देखोगे कि कैसे मोदी सरकार द्वारा दिनदहाड़े वैक्सीन को लेकर के लूट मचाई जा रही है ।

केंद्र सरकार ने निर्णय लिया है कि वैक्सीन के कुल उत्पादन का 50% ( 157 रूपए प्रति डोज ) केंद्र सरकार अपने लिए रिजर्व रखेगी और बाकी 50%  वैक्सीन को वैक्सीन कंपनियां राज्य सरकारों और प्राइवेट अस्पतालों को बेच सकेंगे। कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सिरम इंस्टीट्यूट के सीईओ आदार पूनावाला ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बता दिया है कि हम राज्य सरकारों को ₹400 प्रति डोज और प्राइवेट अस्पतालों को ₹600 रूपए प्रति डोज देगें। 

Price list of covishield vaccine


अब यहां पर सवाल यह उठता है कि जब केंद्र सरकार 157 रूपए प्रति डोज के हिसाब से खरीद रही तो राज्य सरकारों को दोगने दामों पर क्यों खरीदवा रही है मतलब लूट। हो सकता है यह खेल आम जनता की समझ में ना आए लेकिन  केंद्र सरकार, सिरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक के बीच में बिजनेस यहीं से शुरू होता है। लोग कोरोनावायरस के संक्रमण से और आक्सीजन की कमी से मर रहे है लेकिन यहां पर वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां लोगों के जीवन से खेल रही है, पैसे कमा रही हैं और केंद्र सरकार उन्हें ऐसा करने की छूट दे रही है।
Covaxin ” वैक्सीन की प्राइस लिस्ट भी Bharat Biotech कंपनी के चेयरमैन एंड मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ कृष्णा एम. ईल्ला ने जारी कर दी है । 80 से 90% तक कोरोनावायरस से सुरक्षा का दावा करने वाली भारत की दूसरी स्वदेशी कंपनी भारत बायोटेक ने अपने ऑफिशल टि्वटर हैंडल पर ट्वीट करके अपनी प्राइस लिस्ट जारी की है जोकि इस प्रकार है ।

Price list of Covaxin 


दूसरा सवाल जब सिरम इंस्टिट्यूट से निजी अस्पताल ₹600 रूपए और भारत बायोटेक से ₹1200

रुपए प्रति डोज के हिसाब से वैक्सीन खरीदेंगे तो वह आम आदमी को कितने में बेचेंगे। इसमें भी पारदर्शिता नही है। पिछले 1 साल में जितना मैं समझ पाया हूँ कि कुछ भी हो कोरोना महामारी के समय में फार्मास्यूटिकल्स कंपनियो ने देश में जमकर लूट मचाई । चाहे वो मास्क के नाम पर हो,हैण्ड वाश के नाम पर हो,सेनीटाइजर के नाम पर हो,दवाइयों के नाम पर हो  पी.पी.ई किट हो या फिर मेडिकल इक्विपमेंट। जिसका जैसे भी दाव लगा बहती गंगा में हाथ धोने से नहीं चूका। औरो से क्या शिकवा करें जब हमें अपनों ने ही नहीं छोड़ा। मैं पूछना चाहता हूं आदरणीय प्रधानमंत्री महोदय जी से मोदी जी ये दवाई कंपनियां तो विदेशी थी लेकिन आप तो हमारे अपने थे? आज मन बहुत ही व्यथित है और दिलवाले फिल्म का डायलॉग याद आ रहा है ” अरे हमें तो अपनों ने लूटा गैरों में कहां दम था मेरी किश्ती थी वहां डूबी जहां पानी कम था “
किसीने सच ही कहा कि गरीब का कोई नही होता। नोट बंदी के कारण अगर कोई व्यक्ति लाइन में लगा तो वह गरीब था, लॉकडाउन के समय अगर कोई व्यक्ति भूख प्यास से मरा तो वह गरीब था, भरी दुपहरी में मासूम बच्चों को साथ लेकर नंगे पैर कई सौ किलोमीटर पैदल चला और पुलिस से पीटा तो वह गरीब था।  लॉकडाउन के समय से ही देश के प्रधानमंत्री ने देश की गरीब जनता को तरह-तरह से आश्वासन दिया कि जल्द ही सरकार उनके लिए कुछ करेगी, वैक्सीन जल्द ही तैयार हो जाएगी लेकिन जब आज वैक्सीन बन कर तैयार हो गई है और गरीब इस आश में बैठा था कि सरकार उसको फ्री में वैक्सीन लगवाएगी तो उस गरीब के गाल पर वैक्सीन के स्थान पर एक  झन्नाटेदार चाटा लगा।
भाइयों-बहनों मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि कोरोनावायरस से लोग पीड़ित हैं, लोग तड़प हैं, लोग मर रहे हैं। मरीज अस्पतालों में बेड के लिए धक्के खा रहे हैं,ऑक्सीजन और रेमदेसीविर इंजेक्शन के बगैर दम तोड़ रहे जबकि भारत ऑक्सीजन का सबसे अधिक उत्पादन करने वाला देश है।

लेकिन इन सबके बावजूद भी देश का चौकीदार पॉलिटिकल रैलियों मे, लंबी-लंबी फेंकने में और देश की मासूम जनता को बरगलाने में लगा हुआ है। भारत ने 2019-20 में लगभग 4502/ मिट्रिक टन ऑक्सीजन का निर्यात विदेशों में किया जबकि 2020-21 में लगभग 9300/ मिट्रिक टन ऑक्सीजन का निर्यात विदेशों में किया। अगर देश के प्रधानमंत्री की दूरदर्शी सोच होती तो आज हमारे लोग ऑक्सीजन और दवाइयों की कमी के कारण दम नहीं तोड़ रहे होते। 

India #Oxygen Export Rose Over 700% In January 2021 vs 2020 Amid Pandemic https://t.co/UdJzCP7CUX pic.twitter.com/Wzt8K8tfmc

— NDTV (@ndtv) April 21, 2021

href=”https://1.bp.blogspot.com/-8Rf5qoZDKKo/YILJjPbvJ1I/AAAAAAAAVs4/A0OPYKNPAUo7LHmoOzp4YtDycQPTOeMcACLcBGAsYHQ/s1280/20210423_085351.jpg” style=”margin-left: 1em; margin-right: 1em;”>



#DelhiPolice West distt ERVs rushed out on #Oxygen emergency call this morning from Amarleela hospital Janakpuri with 32 #covid patients on life support & fetched 11 Oxygen cylinders in quickest time frm KirtiNagar, Gole Mkt, Mayapuri to #SaveLives#DilKiPolice #GoingBeyondDuty pic.twitter.com/ANVEDZXie1

— #DilKiPolice Delhi Police (@DelhiPolice) April 21, 2021

अब मैं आखिर में देश की जनता से हाथ जोड़कर यही निवेदन करना चाहता हूं कि अपनी बारी आने पर वैक्सीन जरूर लगवाएं और भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी की जा रही गाइडलाइंस का पूर्णत: पालन करें। बहुत आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले, मास्क पहन कर रखे, सामाजिक दूरी का पालन करें, समय-समय पर हाथ धोते रहे और जरूरत पड़ने पर सेनीटाइजर का इस्तेमाल करें।  घबराए नहीं । और सबसे महत्वपूर्ण बात ” यह कोरोनावायरस भी देश के 130/ करोड देश वासियों  की तरह  बहुत ही स्वाभिमानी है जब तक आप इसको लेने बाहर नहीं जाएंगे तब तक यह आपके घर में नहीं आएगा ” आपने अपना कीमती समय निकालकर इसे ध्यान पूर्वक पढा उसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ।

Leave a Comment